• Shiva Panchakshara Stotram- A Prayer On The Five Names of Shiva

    Image

    Chanting this mantra helps a person to be free from the circle of life and death and from all obstacles.

    Continue reading

  • वृन्दावन - राधा-कृष्ण की दिव्य प्रेममयी भूमि

    Image

    घर घर तुलसी ठाकुर पूजा, दरसण गोविंद जी को निरमल नीर बहत जमुना को, भोजन दूध दही कौ।

    Continue reading

  • Top 4 bhajans of this Month on Channel Divya

    Image

    For More Bhajans, Devotional Songs, Aarti, Chalisa Click the link below & Don't forget to Subscribe #MyChannelDivya!

    Continue reading

  • श्री हनुमान जयंती के पावन अवसर पर जानें बजरंग बली को प्रसन्न करने के मंत्र

    Image

    भगवान हनुमान का जन्मदिन हनुमान जयंती के तौर पर मनाया जाता है. यह दिन चैत्र शुक्ल पक्ष पर आता है जिसे चैत्र पूर्णिमा के नाम से भी जानते हैं. ज्योतिषियों का कहना है कि 120 साल बाद यह जयंती ऐसे दिन पड़ी है, जो दुर्लभ संयोग है.

    Continue reading

  • शिर्डी साईं बाबा कष्ट निवारण मंत्र

    Image

    सदगुरू साईं नाथ महाराज की जय

    Continue reading

  • राम नवमी: मर्यादा का पालन करते हुए मर्यादापुरुषोत्तम कहलाए श्रीराम

    Image

    मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम के जन्मदिन के सुअवसर पर चैत्र शुक्ल मास के नवमी तिथि को रामनवमी का विशेष पर्व मनाया जाता है।

    Continue reading

  • शनिदेव को प्रसन्न करने के लिए उपाय

    Image

    जिस पर शनिदेव प्रसन्न हो जाएं, उसके सब कष्ट दूर हो जाते हैं। शनिदेव को प्रसन्न करने के उपाय इस प्रकार हैं, ये उपाय किसी भी शनिवार को कर सकते हैं-

    Continue reading

  • क्यों नहीं किया जाता कोई भी शुभ काम होलाष्टक के दिनों में ?

    Image

    फाल्गुन शुक्ल अष्टमी से लेकर होलिका दहन तक की अवधि को होलाष्टक कहा गया है।

    Continue reading

  • Japji Sahib Path | Guru Nanak Dev Ji | Manjit Dhyani | Channel Divya

    Image

    Japji Sahib is the first sacred composition found in the Guru Granth Sahib. It is compiled by Guru Nanak Dev who is also the founder of Sikhism. In Japji Sahib Path, Guru Nanak Dev explained the truth of life.

    Continue reading

  • भगवान गणेश को क्यों नहीं चढ़ाते तुलसी ?

    Image

    एक बार श्री गणेश गंगा किनारे तप कर रहे थे। इसी कालावधि में धर्मात्मज की नवयौवना कन्या तुलसी ने विवाह की इच्छा लेकर तीर्थ यात्रा पर प्रस्थान किया। देवी तुलसी सभी तीर्थस्थलों का भ्रमण करते हुए गंगा के तट पर पंहुची..

    Continue reading